"मैं धारक को सौ रुपया अदा करने का वचन देता हूँ" ये कथन नोट पर लिखने का कारण जानिए - fun offbeat

Latest

Wednesday, 17 January 2018

"मैं धारक को सौ रुपया अदा करने का वचन देता हूँ" ये कथन नोट पर लिखने का कारण जानिए

500 rupees note, indian currency, indian currency facts, why written on currency notes, facts of currency notes

फ्रेंड्स, हम सभी की जिंदगी का कुछ ना कुछ सपना जरूर होता है, किसी को अच्छी नौकरी चाहिए, किसी को बड़ा घर और किसी को वर्ल्ड टूर। सपना कोई भी हो पैसे के बिना अधूरा है। मतलब ये है कि आपको कोई भी काम करना हो तो पैसा हाथ में होना बहुत जरूरी है। पर फ्रेंड्स जब वही पैसा आपके हाथ में आता है तो क्या आपने उसे कभी ध्यान से देखा है?
सौ के नोटों की गड्डी के हरे-हरे नोट हम सभी ने देखे हैं। और सौ के ही क्यों 10 के 20 के 500 या 2000 के हर नोट पर आपको एक स्पेशल स्टेटमेंट लिखा हुआ जरूर दिखता होगा "मैं धारक को वचन देता हूँ....."।
बचपन से हम इसे पढ़ते आये हैं, लेकिन क्या हमें इसका मतलब पता है कि ये क्यों लिखा जाता है। वो पैसा जो अच्छे अच्छों का ईमान हिला देता है वो खुद इतनी ईमानदारी से वचन क्यों देता है। अगर आप इसका कारण नहीं जानते आज आप जान जायेंगे।

मैं धारक को सौ रुपया देने का वचन देता हूँ" यह कथन नोट पर क्यों लिखा जाता है ?

किसी भी नोट पर रिज़र्व बैंक ऑफ इंडिया यह कथन इसलिए प्रिंट करती है क्योंकि वो जितने रुपये की नोट छापती है उतने रुपये का सोना वह अपने पास रिज़र्व कर लेती है। वह धारक को ये विश्वास दिलाने के लिए यह कथन लिखती है कि यदि आपके पास सौ रुपया है तो इसका मतलब यह है कि रिज़र्व बैंक के पास आपका सौ रुपये का सोना रिज़र्व है। इसी तरह से अन्य नोटों पर भी यह लिखा होने का मतलब है कि जो नोट आपके पास है आप उस नोट के धारक है और उसके मूल्य के बराबर आपका सोना रिजर्व बैंक के पास है, और रिजर्व बैंक वो सोना उस नोट के बदले आपको देने के लिए वचनबद्ध है।
उम्मीद करती हूँ आपको जानकारी पसंद आयी होगी।
-----------------------------
पार्ट टाइम जॉब करना चाहते हैं तो इन स्किल को जरूर डेवलप करें 

No comments:

Post a Comment

whatsapp button