गैस सिलिंडर का रंग लाल ही क्यों होता है - fun offbeat

Latest

Wednesday, 10 January 2018

गैस सिलिंडर का रंग लाल ही क्यों होता है

cylinder is red, reason to be red
दोस्तों, अपने आस पास हम बहुत सी चीज़ें हर दिन देखते हैं। कुछ चीज़ों का मतलब हमें पता होता है और कुछ चीज़ें सवाल बनकर हमारे मन में ही रह जाती हैं, जैसे कि ट्रैफिक सिग्नल के ये रंग कैसे निर्धारित किये गए और इसका क्या इतिहास है ? सिलिंडर का रंग हमेशा लाल होता है मगर क्यों?

ट्रैफिक सिग्नल 

traffic signal, history of traffic signal colors,
आज का समय ऐसा है कि जब भी हम कहीं बाहर निकलते हैं तो ट्रैफिक में फंस ही जाते है और उसके बाद हम ट्रैफिक लाइट की ओर देख रहे होते हैं। इतना ही नही हम सभी बचपन से ही ट्रैफिक लाइट और रूल्स के बारे में बचपन से ही पढ़ते आ रहे हैं। क्या आपने कभी सोचा है कि ट्रैफिक लाइट में रेड, ग्रीन और येलो लाइट का इस्तेमाल ही क्यों होता है। अगर नही सोचा है तो चलो हम आपको बताते हैं इसके बारे में। दरअसल ट्रैफिक सिग्नल और कलर का ये चलन रेलवे से शुरू हुआ था। शरुआती दिनों में लाल रंग का मतलब होता था खतरा, हरे रंग का मतलब होता था सावधान और सफेद रंग का मतलब होता था कि आप जा सकते हैं। इसके वजह से कभी-कभी ये होता था कि जो ट्रैफिक सिग्नल होते थे उसके लेंस गिर जाते थे और फिर वहां पर सफेद लाइट दिखाई देती थी। जिसके वजह से ड्राइवर को सही सिग्नल नहीं मिल पता था। जिससे बहुत बड़ा दुर्घटना हो जाया करती थी। इसके बाद ये सोचा गया कि सफेद को हटा कर ग्रीन को गो कर देते हैं येलो को कौशन यानी कि सावधान कर देते है और रेड तो खतरे का निशान होता ही है और यही चीज हम आजकल सभी ट्रैफिक सिग्नल में देखते हैं।

गैस सिलिंडर का रंग लाल ही क्यों होता है

गैस सिलिंडर का रंग लाल इसलिए होता है क्योंकि लाल रंग खतरे का प्रतीक होता है और गैस सिलिंडर में एक खतरनाक और अत्यधिक ज्वलनशील गैस होता है। इसे बहुत केयर के साथ इस्तेमाल किया जाना चाहिए।
ये जानकारी आपको कैसी लगी हमे कमेंट करके बताए और ये जानकारी और लोगों के साथ शेयर करना ना भूलें करना बिल्कुल न भूलें।