इस शापित और रहस्यमयी गांव में नहीं रहता कोई इंसान, 192 सालों से आज तक है प्रेतात्माओं का बसेरा - fun offbeat

Latest

Friday, 8 September 2017

इस शापित और रहस्यमयी गांव में नहीं रहता कोई इंसान, 192 सालों से आज तक है प्रेतात्माओं का बसेरा

Haunted Village Kuldhara, Rajasthan, Hindi, Story, History, Kahani, Itihas, Information, Janakari,
कुछ पैरानॉर्मल शक्तियां ऐसी होती हैं जिन्हे हम अपनी आँखों से देख तो नहीं सकते पर उनकी उपस्थिति महसूस कर सकते हैं। कुछ ऐसी ही शक्तियों का आभास हुआ है, उन लोगों को जो इस गांव में जाकर आये हैं। इसी कारण ये गांव शापित गांव या हॉन्टेड गांव के नाम से भी मशहूर है। हम यहाँ बात कर रहे हैं 'कुलधरा' गांव की। कुलधरा राजस्थान के जैसलमेर ज़िले में स्थित है। इस गाँव का निर्माण लगभग 13वीं शताब्दी में पालीवाल ब्राह्मणों ने किया था। लेकिन 19वीं शताब्दी में ये नष्ट हो गया, कुछ किवदंतियों के अनुसार इस गाँव का विनाश जैसलमेर के राज्य मंत्री सलीम सिंह के कारण हुआ था। सलीम सिंह जो जैसलमेर के एक मंत्री हुआ करते थे, वो गाँव पर काफी सख्ती से पेश आते थे। ग्रामवासी परेशान होकर रातोंरात ये गाँव छोड़कर चले गए साथ ही श्राप भी देकर गए। इस कारण यह शापित गाँव कहलाता है।

कुलधरा गांव की कहानी | History of kuldhara

यह गाँव अभी भी हॉन्टेड गाँव कहलाता है लेकिन अभी राजस्थान सरकार ने इसे पर्यटन स्थल का दर्जा दे दिया है। इस कारण अब यहां रोजाना हज़ारों की संख्या में देश एवं विदेश से पर्यटक आते रहते है। कुलधरा गांव घूमने आने वालों के मुताबिक यहां रहने वाले पालीवाल ब्राह्मणों की आहट आज भी सुनाई देती है। उन्हें वहां हरपल ऐसा अनुभव होता है कि कोई आसपास चल रहा है। बाजार के चहल-पहल की आवाजें आती हैं, महिलाओं के बात करने उनकी चूडिय़ों और पायलों की आवाज हमेशा ही वहां के माहौल को रहस्यमयी बनाते हैं। प्रशासन ने इस गांव की सरहद पर एक फाटक बनवा दिया है जिसके पार दिन में तो सैलानी घूमने आते रहते हैं लेकिन रात में इस फाटक को पार करने की कोई हिम्मत नहीं करता हैं।
Haunted Village Kuldhara, Rajasthan, Hindi, Story, History, Kahani, Itihas, Information, Janakari,

भुतहा गाँव कुलधरा | Haunted village Kuldhara 

जैसलमेर से करीब अठारह किलोमीटर की दूरी पर है कुलधरा। पालीवाल समुदाय के इस इलाक़े में चौरासी गांव थे और यह उनमें से एक था ये गांव। पालीवाल की कुलधार बिरादरी ने सन 1291 में तकरीबन छह सौ घरों वाले इस गांव को बसाया था। कुलधरा गाँव पूर्ण रूप से वैज्ञानिक तौर पर बना था। ईट पत्थर से बने इस गांव की बनावट ऐसी थी कि यहां कभी गर्मी का अहसास नहीं होता था। यदि भरी गर्मी में इन वीरान मकानों में जायें तो आपको ठंडक का अनुभव होगा। पालीवालों ने ऐसी तकनीक विकसित की थी कि बारिश का पानी रेत में गुम नहीं होता था बल्कि एक खास गहराई पर जमा हो जाता था। और इसी पानी से पालीवाल खेती करते थे।
इतना उन्नत और विकसित गांव केवल एक इंसान की वजह से वीरान हो गया।
Haunted Village Kuldhara, Rajasthan, Hindi, Story, History, Kahani, Itihas, Information, Janakari,
वो इंसान था, गाँव का अय्याश दीवान सलीम सिंह जिसकी नीयत गांव की एक मासूम लड़की पर ख़राब हो गयी थी। सलीम उस लड़की को किसी भी तरह से पा लेना चाहता था। उसने इसके लिए पालीवालों पर दबाव बनाना शुरू कर दिया। हद तो तब हो गई कि जब सत्ता के मद में चूर उस दीवान ने लड़की के घर संदेश भिजवाया कि यदि अगले पूर्णमासी तक उसे लड़की नहीं मिली तो वह गांव पर हमला करके लड़की को उठा ले जाएगा। गांववालों के लिए यह मुश्किल की घड़ी थी। उन्हें या तो गांव बचाना था या फिर अपनी बेटी। इस विषय पर निर्णय लेने के लिए सभी 84 गावों के लोग एक मंदिर पर इकट्ठा हो गए और पंचायतों ने फैसला किया कि कुछ भी हो जाए अपनी लड़की उस दीवान को नहीं देंगे। गांव वालों ने गांव खाली करने का निर्णय कर लिया, और रातोंरात सभी 84 गांव से लोगों ने पलायन कर दिया। जाते-जाते उन्होंने श्राप दिया कि आज के बाद इन घरों में कोई नहीं बस पाएगा। पालीवाल ब्राह्मणों के श्राप का असर यहां आज भी देखा जा सकता है। कुछ परिवारों ने इस जगह पर बाद में बसने की कोशिश की थी, लेकिन वह सफल नहीं हो सके।
Haunted Village Kuldhara, Rajasthan, Hindi, Story, History, Kahani, Itihas, Information, Janakari,

पैरानॉर्मल सोसाइटी | Paranormal society

मई 2013 में पैरानार्मल सोसायटी की टीम ने कुलधरा गांव में खोज बीन की। टीम ने माना कि यहां कुछ न कुछ असामान्य जरूर है। टीम के एक सदस्य ने बताया कि विजिट के दौरान रात में कई बार मैंने महसूस किया कि किसी ने मेरे कंधे पर हाथ रखा, जब मुड़कर देखा तो वहां कोई नहीं था। पेरानॉर्मल सोसायटी के उपाध्यक्ष अंशुल शर्मा ने बताया था कि "हमारे पास एक डिवाइस है जिसका नाम 'घोस्ट बॉक्स' है। इसके माध्यम से हम ऐसी जगहों पर रहने वाली आत्माओं से सवाल पूछते हैं। कुलधरा में भी ऐसा ही किया जहां कुछ आवाजें आई तो कहीं असामान्य रूप से आत्माओं ने अपने नाम भी बताए।" शनिवार चार मई की रात्रि में जो टीम कुलधरा गई थी उनकी गाडिय़ों पर बच्चों के हाथ के निशान भी मिले।
--------------------------------
ये भी पढ़ें-
खूबसूरती के नायब नमूने ताजमहल से जुड़े इन रहस्यों को भी जान लीजिये
ये हैं देश और दुनिया के सबसे haunted रेलवे स्टेशन, यहाँ आज भी भटकती हैं आत्मायें  
दो साल की उम्र में 40 सिगरेट रोजाना पीने वाला बच्चा आज बन गया है हीरो, जानिए कैसे 
ये है सलमान खान की पूर्व गर्लफ्रेंड्स, लम्बी चौड़ी लिस्ट है, पर अब तक नहीं मिला सच्चा प्यार  
बेसिक कंप्यूटर और इंटरनेट की जानकारी है तो इन 4 वेबसाइट्स से घर बैठे कमाएं पैसे 
यदि आपका अंगूठा भी ऐसा है तो आप पर होगी लक्ष्मी जी की विशेष कृपा, नहीं होगी धन की कमी 
--------------------------------------

No comments:

Post a Comment

whatsapp button