इस तरह मिला था विष्णु जी को सुदर्शन चक्र - fun offbeat

Latest

Thursday, 31 August 2017

इस तरह मिला था विष्णु जी को सुदर्शन चक्र

sudarshn chakra, sudarshan chakra kee kahani
सुदर्शन चक्र भगवान विष्णु का शस्त्र है। इसको उन्होंने स्वयं तथा उनके कृष्ण अवतार ने धारण किया है।सुदर्शन चक्र एक ऐसा अचूक अस्त्र था कि जिसे छोड़ने के बाद यह लक्ष्य का पीछा करता था और उसका काम तमाम करके वापस छोड़े गए स्थान पर आ जाता था। चक्र को विष्णु की तर्जनी अंगुली में घूमते हुए बताया जाता है। सबसे पहले यह चक्र उन्हीं के पास था। यह चक्र भगवान विष्णु को 'हरिश्वरलिंग' (शंकर जी) से प्राप्त हुआ था। सुदर्शन चक्र को विष्णु जी ने अपने कृष्ण अवतार में भी धारण किया था। श्रीकृष्ण ने इस चक्र से अनेक राक्षसों का वध किया था।
भगवान शिव व विष्णु से जुड़ी अनेक कथाएं हमारे धर्म ग्रंथों में मिलती है। भगवान विष्णु को सुदर्शन चक्र की प्राप्ति से सम्बन्धित एक मुख्य प्रसंग निम्नलिखित है-
जब दैत्यों के अत्याचार बहुत बढ़ गए तब एक बार भगवान विष्णु, शिवजी का पूजन करने के लिए काशी आए। यहां मणिकार्णिका घाट पर स्नान करके उन्होंने एक हजार स्वर्ण कमल फूलों से भगवान शिव की पूजा का संकल्प लिया। वे हजार नामों से शिव की स्तुति करने लगे। वे प्रत्येक नाम पर एक कमल पुष्प भगवान शिव को चढ़ाते। अभिषेक के बाद जब भगवान विष्णु पूजन करने लगे तो शिवजी ने उनकी भक्ति की परीक्षा लेने के लिए एक कमल का फूल कम कर दिया। भगवान विष्णु को अपने संकल्प की पूर्ति के लिए एक हजार कमल के फूल चढ़ाने थे।
एक पुष्प की कमी देखकर उन्होंने सोचा कि मेरी आंखें ही कमल के समान हैं इसलिए मुझे कमलनयन और पुण्डरीकाक्ष कहा जाता है। एक कमल के फूल के स्थान पर मैं अपनी आँख ही चढ़ा देता हूं। ऐसा सोचकर भगवान विष्णु जैसे ही अपनी आँख भगवान शिव को चढ़ाने के लिए तैयार हुए, वैसे ही शिवजी प्रकट होकर बोले- हे प्रभु विष्णु, आपके समान संसार में कोई दूसरा मेरा भक्त नहीं है।
sudarshn chakra, sudarshan chakra kee kahani
आज की यह कार्तिक शुक्ल चतुर्दशी अब से बैंकुठ चतुर्दशी के नाम से जानी जाएगी। इस दिन व्रत पूर्वक जो पहले आपका और बाद में मेरा पूजन करेगा और बैकुंठ लोक की प्राप्ति होगी। तब प्रसन्न होकर शिवजी ने भगवान विष्णु को सुदर्शन चक्र भी प्रदान किया और कहा कि यह चक्र राक्षसों का विनाश करने वाला होगा। तीनों लोकों में इसकी बराबरी करने वाला कोई अस्त्र नहीं होगा। विष्णु ने उस चक्र से दैत्यों का संहार किया। इस प्रकार देवताओं को दैत्यों से मुक्ति मिली तथा सुदर्शन चक्र उनके स्वरूप के साथ सदैव के लिए जुड़ गया।
-----------------------------
ये भी पढ़ें -
ठोड़ी देखकर पहचानें कैसा होगा व्यक्ति का स्वभाव 
ये हैं शिव जी के तीसरे पुत्र जिनके बारे में आप नहीं जानते होंगे 
इस जगह पिंजरे में कैद होते हैं इंसान और खुले घुमते हैं जानवर 
-----------------------------------

No comments:

Post a Comment

whatsapp button